मैं रोज़े में हूँ ┇Main roze mein hu ┇I am Fasting

Ramzan
Share this post
  • 43
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    43
    Shares

Subscribe:
https://www.youtube.com/channel/UCRpp4159KwPkbmxOzDV2Rcg

यदि आप रोज़े में हैं और कोई आपका अपमान करता है, तो सुन्नत यह है कि आप बेहतर तरीक़े से जवाब दें और कहें कि मैं रोज़े में हूँ।

पैग़म्बर मुहम्मद ﷺ ने फ़रमाया कि रोज़ा एक ढाल है इसलिए कोई भी अश्लील या अपमानजनक बात या व्यवहार नहीं होना चाहिए।
यदि कोई व्यक्ति उससे लड़ता है या उसका अपमान करता है, तो उसे कहने चाहिए कि मैं रोज़े में हूँ।

बुख़ारी – 1894; मुस्लिम – 1151.

अल्लाह ने कहा: ऐ ईमान लानेवालो! तुमपर रोज़े अनिवार्य किए गए, जिस प्रकार तुमसे पहले के लोगों पर किए गए थे, ताकि तुम में तक़वा आजाए।

क़ुरआन (2:183)

पैग़म्बर मुहम्मद ﷺ ने फ़रमाया
जो कोई भी झूठ बोलना नहीं छोड़े, तो अल्लाह को कोई ज़रुरत नहीं के वह अपना खाना पीना छोड़ दे.”

बुख़ारी 6057

पैग़म्बर मुहम्मद ﷺ ने फ़रमाया
बहुत से लोग जो रोज़ा रखते हैं उन्हें भूख और प्यास के अलावा कुछ नहीं मिलता
और कई लोग जो रात में क़याम करते हैं, उन्हें रातों की नींद हराम करने के अलावा कुछ नहीं मिलता

दरमि, अहमद

ऐ अल्लाह, आपको याद हमारे ज़ेहनों में क़ायम करदे, आपका शुक्र करने वाला बना दे और बेहतरीन तरीक़े से अपनी बंदगी में लगाले।

If you are fasting and someone insults you, then it is Sunnah to respond in a better manner and say, “I am fasting.”

The Messenger of Allah ﷺ said, “Fasting is a shield or protection so there should be no obscene or offensive talk or behavior. If a person fights him or insults him, let him say, ‘I am fasting,’ twice.

Bukhari – 1894, Muslim – 115

Allah says: “O you who have believed, decreed upon you is fasting as it was decreed upon those before you that you may becomne righteous.”

Qur’an (2:183)

The Messenger of Allah ﷺ said:
“Whoever does not give up false speech and acting upon it, Allah has no need of him giving up his food and drink.”

Bukhari – 6057

The Messenger of Allah ﷺ said:
“Many people who fast get nothing from their fast except hunger and thirst and many people who pray at night get nothing from it except sleepless night.”

Darim, Ahmad.

Facebook Comments

Share this post
  • 43
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    43
    Shares
Tagged

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *