Mahatma Gandhi views on Prophet Muhammad ﷺ

Mahatma Gandhi views on Prophet Muhammad ﷺ

Prophet as Mercy
Share this post
  • 409
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    409
    Shares

Mahatma Gandhi views on Prophet Muhammad ﷺ
मैं पैग़म्बरे-इस्लाम की जीवनी का अध्ययन कर रहा था। जब मैंने किताब का दूसरा हिस्सा भी ख़त्म कर लिया तो मुझे दुख हुआ कि इस महान प्रतिभाशाली जीवन का अध्ययन करने के लिए अब मेरे पास कोई और किताब बाकी नहीं। अब मुझे पहले से भी ज़्यादा यक़ीन हो गया है कि यह तलवार की शक्ति न थी जिसने इस्लाम के लिए दुनिया में जीत हासिल की, बल्कि यह इस्लाम के पैग़म्बर का बेहद सादा जीवन, अपने वादों के लिए ईमानदारी थी,आपका अपने मित्रों और अनुयायियों से प्रेम करना और ईश्वर पर भरोसा रखना था। यह तलवार की शक्ति नहीं थी, बल्कि ये सब विशेषताएं और गुण थे जिनसे सारी बाधाएं दूर हो गयीं और आपने समस्त कठिनाइयों पर विजय प्राप्त कर ली।

Mahatma Gandhi views on Prophet Muhammad ﷺ
“I wanted to know the best of one who holds today’s undisputed sway over the hearts of millions of mankind….I became more than convinced that it was not the sword that won a place for Islam in those days in the scheme of life. It was the rigid simplicity, the utter self-effacement of the Prophet, the scrupulous regard for his pledges, his intense devotion to this friends and followers, his intrepidity, his fearlessness, his absolute trust in God and in his own mission.

Source: The Collected Works of Mahatma Gandhi, Vol. 25, pg. 127.
https://gandhiheritageportal.org/cwmg_volume_thumbview/MjU=#page/162/mode/2up

Must Read: Rights of Neighbors In Islam | इस्लाम में पड़ोसी के अधिकार
http://islamshantihai.com/rights-of-neighbors-in-islam/

Facebook Comments

Share this post
  • 409
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    409
    Shares
Tagged

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *