What is Halala? क्या है हलाला?

हलाला क्या है? What is Halala?

Misconceptions About Islam
Share this post
  • 898
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    898
    Shares

हलाला क्या है ? (Halala)

इस्लाम में निकाह एक इबादत है और साथ ही एक अनुबंध (Contract) है जब तक कि शादी के बाद दोनों का साथ में रहना मुमकिन न हो। क़ुरआन ने निकाह को निभाने के लिए कहा, क़ुरआन ने निकाह की इस प्रतिज्ञा को निभाने के लिए कहा, वे तुमसे दृढ़ प्रतिज्ञा भी ले चुकी है? (4:21)

निकाह की यह प्रतिज्ञा केवल यौन इच्छा को पूरा करने के लिए नहीं है, बल्कि इसका उद्देश्य जीवन में मानसिक शांति प्राप्त करना है।

और यह भी उसकी निशानियों में से है कि उसने तुम्हारी ही सहजाति से तुम्हारे लिए जोड़े पैदा किए, ताकि तुम उसके पास शान्ति प्राप्त करो।… (30:21)

पति-पत्नी एक-दूसरे के लिए कपड़ों की तरह होते हैं। वस्त्र सजावट का कार्य करते हैं और सुरक्षा प्रदान करते हैं, इसी तरह पति-पत्नी एक-दूसरे के श्रंगार हैं और एक-दूसरे को सुरक्षा प्रदान करते हैं।

वह तुम्हारे लिबास हैं और तुम उनका परिधान हो।… (2:187)

पैग़म्बर मुहम्मद ﷺ ने एक अच्छी पत्नी को सबसे बेशकीमती संपत्ति घोषित किया और तलाक़ के लिए उन्होंने कहा कि यह अल्लाह की नजर में अनुमत कृत्यों में सबसे घृणित है। कुरआन ने पुरुषों को अपनी पत्नी के साथ समायोजित करने की सलाह दी, भले ही वह उन्हें नापसंद हों (4:19) और पैग़म्बर मुहम्मद ﷺ ने पुरुषों को सलाह दी कि वे अपनी पत्नियों को उनके दुराचार के अलावा अन्य कारणों से तलाक न दें। (तबरानी)

उपरोक्त परिदृश्य का विकृत हलाला (Halala) की अवधारणा से कोई संबंध नहीं है। हलाला (Halala) की अवधारणा पर नीचे अलग से चर्चा की जा रही है।

हलाला (Halala)

क़ुरआन ने कहा, फिर यदि वह उसे तलाक़ दे दे (तीसरी बार),तो इसके पश्चात वह उसके लिए वैध न होगी,जबतक कि वह उसके अतिरिक्त किसी दूसरे पति से निकाह न कर ले। अतः यदि वह उसे तलाक़ दे दे तो फिर उन दोनों के लिए एक-दूसरे को पलट आने में कोई गुनाह न होगा, यदि वे समझते हो कि अल्लाह की सीमाओं पर क़ायम रह सकते है। और ये अल्लाह कि निर्धारित की हुई सीमाएँ है, जिन्हें वह उन लोगों के लिए बयान कर रहा है जो जानना चाहते हो (2:230)

एक आदमी दो तलाक़ के बाद अपनी पत्नी को दो बारा वापस ले सकता है और तीसरी बार तलाक़ देने बाद भी उसकी इद्दत की समाप्ति से पहले उसे वापस ले सकता है। लेकिन इसके बाद जब जुदाई बेबदल हो जाए, वह फिर अपनी पसंद के किसी अन्य व्यक्ति से शादी करने के लिए स्वतंत्र है। यदि फिर जीवन के सामान्य पाठ्यक्रम में उनके बीच एक विवाद पैदा होता है जिसके कारण उसके दूसरे पति से पहली तलाक़ हो जाती है, तो वह फिर से दूसरे पति सहित अपनी पसंद के किसी भी व्यक्ति से शादी करने के लिए स्वतंत्र है (पहले पति के साथ भी)। यहां प्रासंगिक बात यह है कि हलाला (Halala) की योजना पहले से नहीं बनाई जा सकती अगर वह ऐसा करती है। यहां प्रासंगिक बात यह है कि हलाला (Halala) की योजना पहले से नहीं बनाई जा सकती। अगर वह ऐसा करती है, तो यह दूसरे पति के साथ और पहले पति के साथ नाजायज संबंध होगा और साथ ही वह भी जिसके साथ वह पूर्व नियोजित हलाला के बाद रहने के लिए आई है। पैग़म्बर मुहम्मद ﷺ ने ऐसे दोनों पुरुषों पर लानत फ़रमाई है जो हलाला करते हैं और जिनके लिए हलाला किया जाता है। दूसरे ख़लीफ़ा हज़रत उमर ने अपनी ख़िलाफ़त के दौरान फैसला सुनाया कि जो लोग पूर्व नियोजित हलाला करते हैं उन्होंने पत्थर मार-मार कर मौत की सज़ा दी जाए। इमाम सूफ़ियान सौरी कहते हैं, अगर कोई हलाल करने के लिए किसी महिला से शादी करता है (उसके पूर्व पति के लिए) और फिर उसे पत्नी के रूप में रखना चाहता है उसे ऐसा करने की अनुमति नहीं है, जब तक कि वह नए सिरे से निकाह नहीं करता, क्यूंकि पिछला निकाह गैरकानूनी था (तिर्मिज़ी)

Facebook Comments

Share this post
  • 898
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    898
    Shares
Tagged

1 thought on “हलाला क्या है? What is Halala?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *