लव जिहाद

लव जिहाद एक झूठा प्रचार।

लव जिहाद एक ऐसा शब्द है जिसका इस्लाम से कोई ताल्लुक़ नहीं। ये शब्द न कहीं क़ुरआन में आया है और ना हदीस में। इस शब्द को लाने का एक ही कारण है कि कैसे मुसलमानों को बदनाम किया जाये और कैसे इस देश का सांप्रदायिक सौहार्द ख़राब किया जाये। तथाकथित लव जिहाद एक झूठा […]

Continue Reading
इस्लाम

इस्लाम पर सब की नज़र क्यों?

इस्लाम पर सब की नज़र क्यों? इंसान ने जब कभी ख़ुद को असमर्थ पाया तो उसने आंख उठाकर आसमान की तरफ़ देखा, ये आसमान कि तरफ़ देखना ख़ुद को समर्पित करना है, यानी जब इंसान ऐसा करता है तो वो ख़ुद को असमर्थ मान कर ईश्वर से सहायता प्राप्त करने की कोशिश करता है। इसी […]

Continue Reading
फ़िरक़ाबंदी

फ़िरक़ाबंदी से मुसलमानों को क्या नुक़सान हुआ?

फ़िरक़ाबंदी से मुसलमानों को क्या नुक़सान हुआ? हम सबने साइकिल ज़रूर चलाई होगी, सबको मालूम होगा कि साइकिल चेन की मदद से चलती है। इसके छोटे छोटे हिस्से आपस में जुड़कर साइकिल को चलने योग्य बनाते हैं। इनमें से एक हिस्सा भी अलग कर दिया जाए तो साइकिल को चलाना असंभव है। यही उदाहरण मुसलमानों […]

Continue Reading
मुसलमानों

मुसलमानों को अपनी हालत सुधारने के लिए क्या करना चाहिए?

मुसलमानों को अपनी हालत सुधरने के लिए सबसे पहले अपना आत्म-निरीक्षण करना होगा। उन्हें अपने आपको उन चीज़ो से अवगत करना होगा जिनसे उनकी तरक्की हो और उन चीजों से अपने आपको दूर रखना होगा जो उनकी तरक्की के रास्ते में रूकावट हो। यहाँ तरक्की से मुराद उनकी वो तरक्की है जिससे उनको दुनिया में […]

Continue Reading
islam and humanity

इस्लाम – मानवता के लिए सन्देश

इस्लाम पिछले कुछ दशकों से चर्चा का विषय बना हुआ है। कुछ इसको मानवता के ख़िलाफ़ और कुछ मानवता के हित में बताते हैं। ये बहस जूं की तूं जारी है। मानवता की जब बात कि जाती है तो आम तौर पर इन बहसों में किसी प्रांत या कुछ विशेष चीज़ों की चार दीवारी बनाकर […]

Continue Reading

इस्लाम और विश्व शांति।

ज़रा सोचिए के क्या शांति वहां हो सकती जहां हर कोई ख़ुद को दूसरे से बड़ा समझता हो? क्या ये हो सकता है कि दूसरों को ख़ुद से हीन समझते हुए भी हम उनको बराबर मान लें? और क्या ये हो सकता है कि ऊँच नीच के साथ शांति क़ायम हो सके? कभी नहीं हो […]

Continue Reading

इस्लाम भाईचारे का सन्देश देता है।

इस्लाम धर्म पूरी मानव जाति को  एक मां बाप की संतान कह कर हर इंसान को ख़ून के रिश्ते में बांध देता है। इससे बेहतर भाईचारे का कोई और तरीका हो भी नहीं सकता था। अगर ये कहा जाता कि तुम सब एक दूसरे के लिए भाई जैसे हो तो रिश्ते की वो मज़बूती ख़याली […]

Continue Reading

मुसलमानों के मौजूदा हालात का हल क्या है?

इस्लाम, मुसलमान और मौजूदा हालात, ये वो सवाल है जिसका जवाब हर मुस्लिम बुद्धजीवी अपनी समझ के हिसाब से ढूंढ रहा है। कोई राजनीति में इसका जवाब ढूंढने की कोशिश कर रहा है, तो कोई शिक्षा संस्थान के अंदर इसके मिलने की बात कर रहा है। मगर ये  तरीके अधूरे हैं क्योंकि धर्म पूरे जीवन […]

Continue Reading

ग़ैर मुसलमानो की ग़लतफ़हमियाँ दूर करने के लिए मुसलमानों को क्या करना होगा?

जब अल्लाह समस्त मानव जाति की तरफ़ अपने आख़री रसूल भेजा तो उसने  उसके बाद आने  वाले तमाम इंसानों के लिए आख़री रसूल को ही मार्गदर्शक बना दिया।  वास्तव में ये सवाल यूं तो बहुत पुराना है लेकिन बदलते समय के साथ ये सवाल और भी ज़रूरी हो जाता है कि “ग़ैर मुसलमानो की ग़लतफ़हमियाँ […]

Continue Reading